Corrected arrears sent by adding surcharge to bills deposited in lockdown | लॉकडाउन में जमा करवाए बिलों में सरचार्ज जोड़कर भेजा एरियर किया सही


चंडीगढ़9 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

भास्कर के वीरवार के अंक में समाचार प्रकाशित होने से बिजली विभाग ने अपनी गलती में सुधार करते बिलों को करेक्ट करवाया। बिलों में लॉकडाउन के दौरान ई-संपर्क एप पर जमा करवाई राशि को सरचार्ज के साथ जोड़कर एरियर भेजा गया था। अब बिलों के जमा करने की अंतिम तारीख 31 जुलाई से बदल कर 7 अगस्त कर दी। वहीं, इसी साइकिल नंबर 3 के ग्रुप 3 में जारी होने वाले 52 हजार बिलों में से 3300 ही डिलीवर हो सके थे। बाकी बिलों को बिजली विभाग ने खबर प्रकाशित होने पर कोरियर कंपनी से कहकर डिलीवर करने से रोक दिया।

कोरोना के चलते 23 मार्च से पहली जून तक लॉकडाउन रहा। इस दौरान कंज्यूमर द्वारा जमा करवाए बिलों को सरचार्ज के साथ जोड़ा गया और बिल सोमवार से बिजली की सब डिविजन नंबर एक के कंज्यूमर को डिलीवर होने लगे। यानि बुधवार तक सब डिविजन नंबर एक के एरिया में 3300 कंज्यूमर के पास ऐसे गलत बिजली बिल पहुंच चुके हैं। जिसे कंज्यूमर करेक्शन करवाने के लिए सब डिविजन के चक्कर काटने लगे।

कंज्यूमर की दलील सुनने के बाद सब डिविजन से बिजली बिल में जुड़ा अमाउंट सरचार्ज के साथ हटाया गया। चीफ इंजीनियर मुकेश आनंद ने सुपरिंटेंडिंग इंजीनियर बिजली विभाग सीडी सांगवान को बुलाकर कहा कि जिन कंज्यूमर को पिछले जमा बिलों को सरचार्ज जोड़कर भेजा हैं। सभी बिलों को कैंसिल करके दोबारा से बिजली बिल जारी किए जाएं। उन्हें जमा करवाने की अंतिम तारीख भी बढ़ाई जाए। यह मैसेज मिलते ही नाइलेट की ओर से बिजली कंज्यूमर को साइकिल 3 के ग्रुप 3 में जारी किए बिलों की ई-संपर्क एप पर करेक्ट किए गए। वहीं, बिजली बिल की हार्ड कापी एक या दो दिन में डिलीवर हो जाएगी। 

0



Source link