Faridabad News In Hindi : Half of the city water closed, population of more than eight lakhs disturbed, supply expected to start on Friday | आधे शहर का पानी बंद, आठ लाख से अधिक की आबादी परेशान, शुक्रवार को सप्लाई शुरू होने की उम्मीद


  • आंधी से गिरे बिजली के 40 खंभे, रैनीवेल की सप्लाई ठप
  • गर्मी में लोगों का बुरा हाल, बिजली विभाग व निगम कर्मी मेंटिनेंस में जुटे

newsjojo

Jun 12, 2020, 04:16 AM IST

फरीदाबाद. बुधवार देर शाम आई आंधी ने शहर में इस कदर कहर ढाया कि आधा शहर पानी के संकट से जूझ रहा है। ददसिया और कामरा गांव में 35 से 40 बिजली के खंभे टूटकर क्षतिग्रस्त हो गए। इससे रैनीवेल की सप्लाई पूरी तरह से बंद हो गई। बिजली विभाग और नगर निगम का स्टाफ मौके पर पहुंच गया और देर रात से ही मेंटिनेंस का काम शुरू कर दिया लेकिन गुरुवार शाम तक न बिजली सप्लाई शुरू हो पाई और न पानी। ऐसे में बाटा चौक से लेकर बदरपुर बॉर्डर तक का इलाका पानी से जूझता रहा है।

निगम अधिकारियों का कहना है कि शुक्रवार शाम तक पानी की सप्लाई श्ुरू होने की उम्मीद है। पानी सप्लाई बंद होने से आधे शहर के 8 से 10 लाेग 36 घंटे से पानी के लिए परेशान हो रहे हैं। बुधवार शाम करीब 5.30 बजे भीषण आंधी आई थी। इससे कामरा और ददसिया के पास 35 से 40 बिजली के खंभे टूट गए। कई जगह पेड़ टूटकर बिजली के खंभों पर गिर गए। इससे बिजली सप्लाई पूरी तरह से ठप हो गई। इससे पानी की सप्लाई भी बंद हो गई।

निगम अधिकारियों के मुताबिक आंधी बंद होने के बाद देर रात पता चल पाया कि सप्लाई बंद होने से यमुना नदी के किनारे लगे रैनीवेल की लाइनें बंद हो गई हैं। इसके बाद निगम और बिजली विभाग के अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंच गए लेकिन रात अधिक हो जाने के कारण मेंटिनेंस का काम शुरू नहीं हो पाया।

36 घंटे से इन इलाकों में नहीं आया पानी 

रैनीवेल की लाइन एक से 7 तक ठप होने से बाटा चौक से बदरपुर बार्डर तक आधे शहर में पानी की आपूर्ति नहीं हो पाई। यानी शहर के पॉश सेक्टर-12, 14, 15, 16, 17, 18, 19, ओल्ड फरीदाबाद, बसेलवा कॉलोनी, कुम्हारवाड़ा, ठाकुर वाड़ा, सैयदवाड़ा, बाढ़ मोहल्ला, सेक्टर-28, 29, 30, 31, 37, स्प्रिंग फील्ड कॉलोनी, इंद्रप्रस्थ कॉलोनी, श्रमिक विहार, अशोका एन्क्लेव, डीएलएफ, सराय ख्वाजा, पल्ला, एतमादपुर, कनिष्का सहित कई अन्य कॉलोनियों में पानी की सप्लाई बंद हो गई। यहां रहने वाले करीब 8 से 10 लाख की आबादी को पानी की समस्या से जूझना पड़ रहा है। 

रैनीवेल की सात लाइनें हुई बंद

जेएनएनयूआरएम स्कीम के तहत शहर में पानी की आपूर्ति  के लिए वर्ष 2005 में रैनीवेल का प्रोजेक्ट बनाया गया था। करीब पांच सौ करोड़ की लागत से यमुना किनारे 10 रैनीवेल का निर्माण किया गया। इससे रोज करीब 220 एमएलडी पानी की सप्लाई शहर में में होती है। आंधी के कारण यमुना किनारे बिजली के खंभे टूटने से शहर में पानी की सप्लाई करने वाली एक से सात तक की रैनीवेल लाइन बंद हो गईं। इससे गुरुवार को शहर में पानी के लिए हाहाकार मच गया। 

इन गांवों में बिजली की सप्लाई भी बंद

विभागीय सूत्रों की मानें तो बिजली के खंभे टूटने से ददसिया, लालपुर, महावतपुर, नाचौली, कामरा, राजपुर, डूंगरपुर, अल्लीपुर, सिराग, अमीपुर, सुडौला, चीरसी और मंझावली आदि गांव में बिजली सप्लाई बंद हो गई। राजपुर गांव निवासी हरिगोपाल, मूलचंद, श्यामवीर आदि ने बताया कि गांव के लेागों ने बताया कि गर्मी में लोगों की बुरा हाल है।

^यमुना किनारे बिजली के खंभे गिरने की सूचना मिलने पर शाम को ही हम लोग मौके पर पहुंच कर बिजली कर्मियों के साथ मिलकर मेंटिनेंस का काम शुरू कर दिया था। गुरुवार को पूरे दिन खंभे ठीक कराने में लगे रहे। उम्मीद है शुक्रवार शाम तक पानी सप्लाई शुरू कर दी जाए। बड़ा नुकसान होने के कारण समय लग रहा है। 
-नवल सिंह, एसडीओ एवं इंचार्ज रैनीवेल लाइन



Source link