If the crowd increased due to unlock, then the antigen test of 545 tested in the markets, all negatives were found | अनलाॅक से भीड़ बढ़ी तो बाजारों में जांच 545 का एंटीजन टेस्ट, सभी नेगेटिव मिले


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें newsjojo ऐप

रायपुर19 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • बंजारी चौक, जवाहर बाजार व रविभवन में दुकानदारों का परीक्षण

राजधानी में सभी बाजारों के अनलाॅक और भीड़ बढ़ने से चिंतित सरकारी एजेंसियों ने तय किया था कि दो-चार दिन बाद बाजारों में जांच शुरू की जाएगी, ताकि संक्रमण बढ़ने से पहले ही अनुमान लगाकर एहतियाती उपाय कर लिए जाएं। इसे ध्यान में रखते हुए शुक्रवार को हेल्थ और निगम की अाधा दर्जन टीमें सुबह शहर के तीन भीड़भरे बाजारों, बंजारी चौक, जवाहर मार्केट और रवि भवन में पहुंची और दुकानदारों तथा स्टाफ की कोविड जांच शुरू कर दी गई।

दिनभर में तीनों जगह को मिलाकर एंटीजन किट से 545 लोगों का टेस्ट हुआ और इसमें एक भी पाजिटिव नहीं मिला। इस नतीजे से हेल्थ अमला भी हैरान है, क्योंकि एक माह पहले यानी अप्रैल में शहर में 100 लोगों की जांच में एंटीजन किट से ही 54 पाजिटिव निकल रहे थे। राजधानी में कोरोना का संक्रमण घट रहा है। अप्रैल में संक्रमण दर 54 फीसदी थी। यह घटकर 4 प्रतिशत हो गई है, यानी 100 लोगों में 4 ही पाॅजिटिव निकल रहे हैं। लेकिन बाजारों में हुई जांच का आंकड़ा चौंकाने वाला है, क्योंकि 545 लोगों की जांच में एक भी पाजिटिव नहीं निकला। शुक्रवार को यह अभियान शुरू हुआ। पहले दिन बंजारी चौक बाजार में 197, जवाहर बाजार में 186 एवं रवि भवन में 162 लोगों के सैंपल लेकर एंटीजन किट से जांच हुई और यह नतीजे आ गए।

मालवीय रोड, गोलबाजार, पंडरी में आज
निगम के जोन-4 और स्वास्थ्य विभाग की टीमें 29 मई को मालवीय रोड, गोलबाजार के अलावा रवि भवन तथा बंजारी रोड के बचे दुकानदारों एवं कर्मचारियों की कोरोना जांच करेंगी। सभी बाजारों की सूची तैयार है। शनिवार को ही पंडरी कपड़ा बाजार की सभी दुकानों के दुकानदारों एवं उनके कर्मचारियों की कोविड जांच की जाएगी। निगम अफसरों का कहना है कि बाजार की भीड़ कोरोना सुपर स्प्रेडर न बने इसलिए यह अभियान चलाया गया है।

ऐसा क्यों: एक्सपर्ट्स की राय

1. वायरस की माइल्ड वैरायटी
संक्रमण कम हुआ है, इसकी वजह यह है कि वायरस की वैरायटी माइल्ड है यानी ज्यादा संक्रमण नहीं फैला पा रही है। इसीलिए अभी कोमार्बिडिटी यानी गंभीर बीमारी वालों को ही दिक्कत ज्यादा है।
-डा. आरके पंडा, सदस्य-कोरोना कोर कमेटी

2. दूसरी लहर हुई कमजोर
देशभर में कोरोना की दूसरी लहर कमजोर पड़ रही है। यह ट्रेंड उन क्षेत्रों में भी है जहां कुछ दिन पहले तक कोरोना के कारण हाहाकार मचा था। हालांकि अलर्ट रहने की जरूरत अब भी है, इसलिए हम बाजारों और सार्वजनिक क्षेत्रों में जांच जारी रखेंगे।
-डॉ. मीरा बघेल, सीएमएचओ-रायपुर

3. सतर्कता बढ़ने के कारण भी
लोग मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को आदत में बदल रहे हैं। इसलिए भी राजधानी में संक्रमण तेजी से घटा है। हालांकि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है। लक्षण दिखते ही जांच कराना बहुत जरूरी है।
-डॉ. विष्णु दत्त, डीन,नेहरू मेडिकल कॉलेज

खबरें और भी हैं…



Source link