Municipal councilors opened a front against the officials | नगरपालिका के पार्षदों ने खोला अधिकारियों के खिलाफ मोर्चा


खरखौदा4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • सफाई टेंडर में जताई घपले की आशंका

नगरपालिका के पार्षदों ने नगर पालिका की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए सोमवार को कहा कि खरखौदा नगर पालिका में सफाई के नाम पर करोड़ों के टेंडर किए जा रहे हैं। जबकि उनकी मौजूदा स्थिति में कोई जरूरत ही नहीं है। क्योंकि आबादी के मुताबिक खरखौदा शहर छोटा शहर है इसकी सफाई पहले करीब 10 लाख रुपए प्रति माह होती थी।

वहीं एनजीटी का नाम लेकर रात की सफाई के लिए भी करीब 7 लाख प्रति माह टेंडर दिया गया। पार्षद मंगलवार को इस मामले में धरना दे सकते हैं। इसके अतिरिक्त सरकार व वरिष्ठ अधिकारियों का नाम लेकर टेंडर छोड़े जा रहे है, जो सरासर गलत है। इसकी जांच की जानी चाहिए। पार्षदों ने सफाई टेंडर में घपले की आशंका जताई है की साढ़े 4 करोड का सफाई पर खर्च करने की जरूरत नहीं है। प्रस्ताव पास किये बगैर ही ये टेंडर लगाए जा रहे है।

पार्षदों का आरोप है कि खरखौदा शहर में इतनी बड़ी रकम का टेंडर छोड़कर सफाई करवाने की जरूरत ही नहीं थी। नगर पालिका पार्षदों ने विरोध जाहिर करते हुए कहा कि जिस तरह से नगरपालिका द्वारा पैसे को बर्बाद किया जा रहा है इसकी इंक्वायरी करके मामले की जांच की जाए। इसी तरह से बच्चेश्वर तालाब की पहले पैमाइश कराई इसके बाद इसका निर्माण कार्य की दिशा में कदम उठाए जाएं। पार्षदों ने मांग की है कि बगैर पार्षदों की प्रस्ताव पास की कोई भी कार्य न किया जाए। मिलीभगत करके पार्षदों की बगैर मंजूरी के काम पास किये जा रहे है। इस अवसर पर नपा उपाध्यक्ष वनदीप जेतली, संजीत, श्याम पाल सैनी, सुनीता, सीमा, मोहन सहित विभिन्न पार्षद उपस्थित रहे।
धरने की चेतावनी, मंत्री विज को देंगे शिकायत
पार्षद मोहन दहिया , वाइस चेयरमैन वंदीप उर्फ हैप्पी, पार्षद संजीत ढोल का कहना है कि जल्द ही अगर इस मामले में प्रशासन ने संज्ञान नहीं लिया तो वे मामले की शिकायत मंत्री अनिल विज को करेंगे और साथ ही नगरपालिका के सामने धरना प्रदर्शन भी शुरू करेंगे।
मौजूदा चल रहे ठेके से आगामी सस्ता होगा

एनजीटी की गाइड लाइन के तहत ही टेंडर प्रक्रिया को अंजाम दिया जा रहा है। मौजूदा समय में चल रहे सफाई ठेके से आगामी ठेका सस्ता होगा। क्योंकि भविष्य में एक मुश्त राशि देने की बजाए ठेकेदार को कूड़े के वजन के मुताबिक राशि दी जाएगी।
पवित्र गुलिया, सचिव नगरपालिका, खरखौदा।

0



Source link