Raipur News In Hindi : Nandanvan started with precaution, reduced rush time by one and a half hours, now will not be able to take any food items | एहतियात के साथ नंदनवन शुरू, घूमने का समय डेढ़ घंटे किया कम, अब खाने का कोई सामान नहीं ले जा सकेंगे


  • पहले सुबह 8.30 बजे पर्यटकों को दे देते थे प्रवेश, अब डेढ़ घंटे परिसर सैनिटाइज करने के बाद 10 बजे दे रहे एंट्री

newsjojo

Jul 09, 2020, 04:21 AM IST

रायपुर. नंदनवन और पक्षी विहार लगभग साढ़े तीन महीने बाद पर्यटकों के लिए खोल दिए गए हैं। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए यहां कई बड़े बदलाव किए गए हैं। नंदनवन खुलने के समय में बदलाव किया गया है। पहले ये सुबह 8.30 से शाम 5.30 बजे तक पर्यटकों के लिए खुला रहता था। अब पर्यटकों को सुबह 10 बजे से प्रवेश दिया जा रहा है। 8.30 से 10 बजे तक डेढ़ घंटे पूरे परिसर को सैनटाइज किया जाता है। पहले यहां लोग कुछ खाने का सामान लाकर पिकनिक मनाया करते थे। यहां कैंटीन जैसा एक जोन खाने के लिए बना है लेकिन अब इस जोन में कुछ भी खाने पर प्रतिबंध है। लगभग 52 एकड़ में फैले नंदनवन में एक एकड़ में पक्षी विहार है। सुरक्षा के लिहाज से पक्षी विहार के अंदर एंट्री बैन रखी गई है। पर्यटक बाहर से ही पक्षियों का दीदार कर रहे हैं। पर्यटकों को प्रवेश से पहले हैंड सैनिटाइज कराने के साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है। 

नंदनवन, दाेपहर 03:00 बजे
1 घंटे घूमे, कहीं बैठे नहीं, कुछ छुआ भी नहीं

राज शर्मा नंदनवन पहुंचे तो एंट्रेंस पर ही गार्ड ने उनका हैंड सैनिटाइज किया और थर्मल स्क्रीनिंग की। नाम, पता और नंबर पूछने के बाद उन्हें उन्हें केमिकल वाटर से पैरों को सैनिटाइज करने कहा। इसके बाद गार्ड ने परिसर के भीतर कुर्सी पर न बैठने, रेलिंग को न छूने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की समझाइश देने के बाद उन्हें एंट्री दी। राज लगभग एक घंटे परिसर में रहे। इस दौरान सुरक्षा के लिहाज से वे कहीं नहीं बैठे। न कुछ छुआ। उन्होंने बारहसिंगा जैसे जानवरों की फोटो क्लिक की। पक्षी विहार के भीतर प्रवेश बंद था तो बाहर खड़े होकर जालियों से ही पक्षियों का दीदार किया।

  • नंदनवन में कुल 368 जानवर हैं। इसमें 93 हिरण, 6 तेंदुए, 2 हाइना, 8 नील गाय, 200 बतख, 4 ब्लैक स्वान, 2 शुतुरमुर्ग, 6 ईमू, 2 मकाऊ, 18 कछुए आदि शामिल हैं।
  • पक्षी विहार में लगभग 150 दुर्लभ प्रजातियों के पक्षी हैं। इसमें सिल्वर और गोल्डन फीजेंट, एक्लेक्ट पैरेट, अफ्रीकन ग्रे पैरेट, क्रेस्टेड वुड पैक्विक, ब्लैक नेक्ड स्वान, पैरोलन डक शामिल हैं।
  • नंदनवन में 65 वर्ष से अधिक और 10 वर्ष के कम उम्र के बच्चों और गर्भवती महिलाओं की एंट्री बैन रखी गई है। 
  • लॉकडाउन से पहले रोज औसतन 500 लोग पहुंचते थे, बुधवार को पहुंचे 172 पर्यटक

नाम-नंबर लिख रहे, शूज भी कर रहे सैनिटाइज
सुरक्षा के लिहाज से प्रवेश से पहले हर पर्यटक का नाम, पता, मोबाइल नंबर रजिस्टर में नोट कर रहे हैं। हैंड सैनिटाइज करने के अलावा केमिकल वाटर में जूते  भी सैनिटाइज करने के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। नंदनवन कैंपस में बने पाथवे पर तीन से चार फीट की दूरी पर मार्किंग की गई है, ताकि पर्यटक दूरी बनाकर ही यहां चलें। यहां घूमने की अधिकतम समय सीमा तय नहीं है, लेकिन ज्यादार पर्यटक औसतन एक घंटे के लिए यहां पहुंच रहे हैं।

जानवरों को पीपीई किट पहनकर दे रहे हैं खाना
नंदनवन के कर्मचारी जानवरों को खाना देते समय भी एहतियात बरत रहे हैं। कर्मचारी पीपीई किट पहनकर जानवरों को खाना दे रहे हैं। पर्यटकों को स्पिट न करने, बाड़े के पास बनी रेलिंग व जालियों से दूर रहने के सख्त निर्देश दिए जा रहे हैं।

हफ्तेभर में पक्षी विहार के अंदर भी घूम सकेंगे पर्यटक
“नंदनवन पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है। पक्षी विहार भी नंदनवन परिसर में ही है। फिलहाल बाहर से पक्षियों को देख सकते हैं, लेकिन अंदर जाने की अनुमति नहीं है। हफ्तेभर के भीतर हम पक्षी विहार के अंदर भी प्रवेश देना शुरू कर देंगे।” 
-अरुण पांडे, एपीसीसीएफ



Source link