The body of corona patient Suresh of Sarkaghat waiting for cremation for last 5 days in Saudi Arabia. | सउदी अरब में  5 दिनों से अंत्येष्टि को तरस रहा है सरकाघाट के सुरेश का शव, कोरोना से हुई थी मौत


  • परिवार सउदी अरब में दफनाए जाने की बजाए अंत्येष्टि की आस कर रहा है जबकि सऊदी अरब में उसकी कंपनी के मालिक उसकी डेड बॉडी नहीं ले रहे हैं
  • नियमानुसार सउदी प्रशासन तब तक डेड बॉडी को संभाले रखेगा जब तक उसे कोई क्लेम नहीं कर पाता है

newsjojo

Jun 11, 2020, 02:19 PM IST

मंडी. सरकाघाट उपमंडल के समैला पंचायत के पारगी गांव के युवक सुरेश कुमार की सउदी अरब में कोरोना से हुई मौत के 5 दिनों बाद भी उसकी देह को अग्नी नसीब नहीं हो पा रही है।परिवार ने 3 दिन पहले उसकी मौत की सूचना बाद घर में दीया भी जला दिया है। परिवार सउदी अरब में दफनाए जाने की बजाए अंत्येष्टि की आस कर रहा है जबकि सउदी अरब में  उसकी कंपनी के मालिक उसकी डेड बॉडी नहीं ले रहे हैं।

नियमानुसार सऊदी प्रशासन तब तक डेड बॉडी को संभाले रखेगा जब तक उसे कोई क्लेम नहीं कर पाता है। सुरेश की मौत के बाद परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। वहीं प्रमुख समाजसेवी और सऊदी अरब में होटल कंपनी के मालिक चंद्र मोहन शर्मा ने मामले को लेकर न सिर्फ भारतीय दूतावास को मेल के माध्यम से इस मामले पर तुरंत कार्रवाई करने की मांग की है।

साथ ही वहां पर गल्फ न्यूज़ में कार्यरत रिपोर्टर दोस्त को दमाम में सेंट्रल हॉस्पिटल भेजकर बॉडी रिसीव करने का आग्रह किया है। चंद्र मोहन शर्मा ने बताया कि प्रिंटिंग प्रेस का मालिक अली अल मौसा इस मामले में कोई भी सहयोग नहीं कर रहा है। जिस कमरे में सुरेश तीन नेपालियों के साथ रहता था। उसमें अभी भी तीन नेपाली ठहरे हैं।

उन्हें भी आज तक क्वारैंटाइन नहीं किया गया है। जब चंद्रमोहन शर्मा ने सुरेश कुमार की प्रिंटिंग प्रेस के मालिक को फोन किया तो उन्हें भी देख लेने की धमकी दी है। इसके बाद उन्होंने भारतीय दूतावास में संपर्क किया और उन्हें पूरी स्थिति से अवगत कराया।दूतावास से उन्हें मेल पर सारी बात भेजने को कहा गया और कंपनी के स्पॉन्सर और उसके मालिक का पता मांगा जो उन्हें भेज दिया गया है।

दूतावास को भी सेंट्रल हॉस्पिटल दमाम और सऊदी प्रशासन को मालिक ने सुरेश की मौत के बारे में नहीं बताया गया था। भारतीय दूतावास के अब हरकत में आने के बाद ही सउदी प्रशासन ने भी इस मुद्दे पर कार्रवाई शुरू कर दी है बल्कि उन्होंने आश्वासन दिया है कि जल्द ही भारतीय दूतावास को इस बारे में बता दिया जाएगा। चंद्र मोहन शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और डीसी मंडी  के ध्यान में यह मामला लाया गया है। प्रदेश सरकार ने भी इस मामले को लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है।

दफनाने के बजाए जलाने की लगाई गुहार
मृतक के परिवार ने मांग की है मृतक सुरेश का हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया जाए ना की उसे दफनाया जाए l मृतक की पत्नी सीमा देवी ,बेटे सूरज ने भारत सरकार और सउदी अरब प्रशासन से गुहार लगाई है कि वह प्रिंटिंग प्रेस के मालिक अली अल मौसा के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें और कंपनी का लाइसेंस रद्द करें। पिता धनीराम ने बताया की बेटा डेढ़ साल पहले घर आया था। वहां आठ साल से प्रिंटिंग प्रेस में काम करता था। परिवार का एकमात्र सहारा था। इधर भारतीय दूतावास ने भी चंद्रमोहन शर्मा को भेजी मेल में साफ कहा है कि हमारी पूरी कोशिश रहेगी की इलेक्ट्रिकल शवदाह  में ही शव का अंतिम संस्कार हिंदू रीति रिवाज से करवा जाएगा और अस्थियां जब विमानसेवा शुरू होगी तो परिवार को भिजवा दी जाएंगी।



Source link